चाणक्य की राजा धनानंद से क्या दुश्मनी थी?

आज मैं आपके लिए लेकर आई हूं एक खास जानकारी जो
आपके लिए है बेहद जरूरी और इंटरेस्टिंग!

What-was-the-enmity-of-Chanakya-with-King-Dhananand


दोस्तों आज मैं आपको बताने वाली हूं कि चाणक्य की राजा धनानंद से क्या दुश्मनी थी(What was the enmity of Chanakya with King Dhananand)?

दोस्तों जैसा कि आपको पता ही होगा कि चंद्रगुप्त मौर्य ने कौटिल्य की मदद से राजा धनानंद की हत्या कर दी थी लेकिन क्या आपको पता है की चाणक्य की राजा धनानंद से क्या दुश्मनी थी।

आचार्य चाणक्य मौर्य साम्राज्य के संस्थापक के साथ-साथ चतुर और अर्थशास्त्री के रूप में भी जाने जाते हैं।

चाणक्य अर्थशास्त्र राजनीति के बहुत अच्छे ज्ञाता माने जाते हैं। आज मैं आपको चाणक्य के प्रति शोध से जुड़ी एक कहानी के बारे में बताऊंगी।

दोस्तों! क्या आप जानते हैं कि चाणक्य के पिता की मौत ही चाणक्य के प्रतिशोध की वजह बनी थी।

आज मैं आपको चाणक्य के प्रति शोध से जुड़ी कुछ रोचक बातें बताऊंगी जिनको पढ़ना बहुत ही दिलचस्प होगा।

चाणक्य का जन्म तक्षशिला में हुआ था। इनके पिता चणक मुनि एक शिक्षक थे। इनके पिता ने इनका बचपन में नाम कौटिल्य रखा था। एक शिक्षक होने के नाते चणक मुनि अपने राज्य की रक्षा के लिए बहुत चिंतित थे।

यही कारण था कि चणक मुनि धनानंद जैसे क्रूर राजा की गलतियों और नीतियों के खिलाफ थे। चणक मुनि ने अपने मित्र के साथ मिलकर धनानंद जैसे क्रूर राजा को उखाड़ फेंकने की योजना बनाई। योजना में असफल हो जाने पर धनानंद ने चणक मुनि और उनके मित्र को मौत की सजा सुनाई।

धनानंद ने जनक मुनि का सिर कटवा कर उसे मुख्य चौराहे पर लटकवा दिया था। अपने पिता की मृत्यु और अपमान का प्रतिशोध लेने के लिए चाणक्य के हृदय में बदले की आग सुलग गई। 

पिता की मृत्यु के बाद नन्हे कौटिल्य बिल्कुल बेसहारा हो गए थे। कौटिल्य ने अपने आप को संभाला और अपने पिता के कटे हुए सिर का और पिता के शरीर का अंतिम संस्कार किया।

इसके बाद चाणक्य ने अपने हाथ में पवित्र गंगाजल लेकर शपथ खाई कि "जब तक धनानंद के वंश का सर्वनाश नहीं कर देता तब तक पका हुआ भोजन ग्रहण नहीं करूंगा"। कौटिल्य ने यह शपथ निभाई भी।

चाणक्य की कड़ी प्रतिज्ञा राजद्रोह की ओर संकेत कर रहा था। हालांकि उन्हें इस बात का भी डर था कि कहीं क्रूर राजा उन्हें भी ना मरवा दे।

ऐसे में वह अपना घर बार छोड़कर जंगल की ओर चल पड़े।
चाणक्य जंगल में भागते-भागते थक कर मूर्छित अवस्था में पहुंच गए। तभी जंगल के मार्ग से एक संत गुजर रहे थे। उन्होंने मूर्छित अवस्था में चाणक्य को देखा। उन्होंने उस बालक को उठाकर उसका नाम पूछा।

चाणक्य ने धनानंद के डर से अपना नाम विष्णुगुप्त बताया। उस बालक की अवस्था को देखकर संत को दया आ गई। वह चाणक्य को अपने साथ ले गए। उसी संत ने चाणक्य को शिक्षा-दीक्षा प्रदान की।

अब कौटिल्य को विष्णुगुप्त के नाम से सब जानने लग गए। उन्होंने अपनी मेहनत और लगन से जल्द ही उच्च शिक्षा प्राप्त कर ली। बाद में उनके निपुणता को देखकर उन्हें तक्षशिला का शिक्षक बना दिया गया।

उस समय तक्षशिला पाकिस्तान के रावलपिंडी जिले में मानी जाती थी। शिक्षक के पद पर रहते हुए विष्णु गुप्त अपनी बुद्धिमानी और कुशलता से पूरे तक्षशिला में प्रसिद्ध हो गए। उन्होंने सबके हृदय में जगह बना ली थी। उनके शिक्षा के चर्चे दूर-दूर तक होने लगे।

चाणक्य को एक प्रकांड बुद्धिमानी दृष्टि से देखा जाने लगा। वहां के लोग उनकी बातों से बहुत प्रभावित होते थे।

इसी बीच सिकंदर ने पोरस के राज्य पर आक्रमण करके, उस क्षेत्र पर अपना अधिकार कर लिया था। बाद में पोरस की किसी बात से प्रभावित होकर सिकंदर ने उसका राज्य वापस कर दिया। मगर सिकंदर ने आक्रमण के दौरान बहुत भयानक तबाही मचाई थी। इस युद्ध में पोरस को जान-माल का नुकसान हुआ था।

सिकंदर एक बहुत अच्छा योद्धा था। सिकंदर के इस विनाशक तांडव से चाणक्य भलीभांति परिचित थे। इस कड़ी में दिलचस्प है कि पोरस पर अपना कब्जा करने की नियत से सिकंदर अब तक्षशीला की ओर बढ़ चुका था। 

ऐसे में चाणक्य मगध चले गए। सिकंदर के भय से चाणक्य राज्य की चिंता सताये जा रही थी। शायद यही कारण था कि वे दुश्मन धनानंद के दरबार में बिन बुलाए मेहमान की तरह पहुंच जाते हैं।

वहां पहुंचकर वह राज्य की दयनीय स्थिति का समर्थन करते हैं। इसके बाद वे राजा धनानंद को सिकंदर के भारी उत्पात से आगाह करते हैं। चाणक्य, धनानंद को बताते हैं कि "महाराज दुश्मन मगध साम्राज्य की ओर बढ़ता आ रहा है"।

मगर भोग विलास में डूबा हुआ धनानंद चाणक्य की कोई बात नहीं सुनता है और चाणक्य का बहुत अपमान करता है। चाणक्य को तिरस्कृत करके महल से निकाल देता है।

पिता के हत्यारे से तिरस्कृत होना चाणक्य के लिए असहनीय हो गया था। ऐसे में चाणक्य का राजा के प्रति क्रोध और अधिक बढ़ गया। उसी दिन चाणक्य ने यह शपथ खाई कि वह तब तक अपनी शिखा नहीं बांधेगा जब तक वह उसका सर्वनाश नहीं कर देता।

इसी चरण में उसने अपने एक खास शिष्य को ढूंढना शुरू कर दिया जो चाणक्य की मदद से धनानंद का सर्वनाश कर सके। इसी कड़ी में उन्हें एक बच्चा मिला जिसका नाम चंद्रगुप्त मौर्य था। चंद्रगुप्त मौर्य ने कठोर अनुशासन व चाणक्य की नीतियों का पालन करते हुए धनानंद का वध किया और मगध का राजा बना उसने चाणक्य को अपना मुख्य सलाहकार नियुक्त किया।

Conclusion:

राजा धनानंद ने चाणक्य के पिता की सिर काट कर हत्या करवा दी थी। उस समय चाणक्य की आयु बहुत छोटी थी। जब उसने शिक्षा ग्रहण की तो वह राजा धनानंद के पास गया राजा धनानंद ने उसे बेइज्जत करके महल से निकाल दिया। वहीं से चाणक्य ने अपनी बेइज्जती का बदला लेने की ठानी।

ऐसी ही रोचक जानकारी लेने के लिए होमपेज पर जाएं

आज की पोस्ट में बस इतना ही मिलते हैं एक और नई और रोचक पोस्ट के साथ है तब तक अपना और अपने परिवार का ख्याल रखें अपने चारों तरफ सफाई बनाए रखें धन्यवाद।

एक टिप्पणी भेजें

Thanks for writing back

और नया पुराने